कबीर के दोहे:अब मन हंस की तरह मोती चुनता है


कंचन दीया कारन ने, दरोपदी ने चीर
जो दीया सो पाइया, ऐसे कहैं कबीर

     संत शिरोमणि कबीरदास जे कहते हैं कर्ण ने स्वर्ण दान दिया और द्रोपदी ने वस्त्र का दान दिया। उन्होने जो दान दिया उससे कई गुना बढ़कर उनको प्राप्त हुआ।
    भाव-कर्ण को अनंत यश मिला तो चीरहरण के समय द्रोपदी को भगवान श्री कृष्ण ने वस्त्र प्रदान किया।
पहिले यह मन काग था, करता जीवन घात
अब तो मन हंसा, मोती चुनि-चुनि खात

      संत शिरोमणि अपने मन का वर्णन करते हुए कहते हैं की पहले मेरा मन कौए के समान था जो जीवन पर घात करता रहता था , किन्तु अब यह मन हंस के समान हो गया है जो चुन-चुन कर मोती खाता है।

     अभिव्यक्ति-ऐसा हर व्यक्ति का मन कौए के मन की तरह होता है पर जब उसे ज्ञान प्राप्त होता है तो उसका मन हंस के समान होता है और वह केवल उन्हीं कर्मों में लिप्त होता है जो सात्विक होते हैं और दूसरों को सुख भी पहुंचता है।
पढि पढि तो पत्थर भया, लिखि लिखि भया जो चोर
जिस पढ़ने साहिब मिले, सो पढ़ना कछु और

      संत शिरोमणि कबीरदास जी कहते हैं पुस्तकें पढ़-पढ़कर तो पत्थर के समान जड़ अज्ञानी होते गए और लिख-लिख कर भी चोर बनते गए। जिसे पढ़ने से स्वामी मिलता है वह तो कुछ और ही है।

Advertisements
Post a comment or leave a trackback: Trackback URL.

टिप्पणियाँ

  • राजीव् तनेजा  On फ़रवरी 10, 2008 at 12:06 अपराह्न

    अच्छी शिक्षा….सच्ची शिक्षा…..

    लिखते रहें

  • Swamiji Arhdnareshwer mahaprabhu sant Girimaharaji from Himalayas  On मार्च 15, 2008 at 6:59 पूर्वाह्न

    Santosham paramam shukham.

    aapkey hriday mey baithey us Param Pita Parmeshwer ko mera Dandvat Pranaam aur aap sab snehi logoun ko mera saprem
    ashirvaad.

    om namah shivaya.

    uttarakhandi sant girimaharaji

  • शिद्धर्थ  On मार्च 16, 2008 at 5:15 पूर्वाह्न

    बहुत बडिया बहुत अच्छा
    धन्यावाद !

  • Advocate Rashmi saurana  On जुलाई 13, 2008 at 12:27 अपराह्न

    bhut badhiya.

  • Jeet  On अक्टूबर 23, 2008 at 4:20 पूर्वाह्न

    very good!

  • Yashvi. Milam. Sheth  On दिसम्बर 19, 2008 at 12:12 अपराह्न

    Exellent! My teacher gave me exellent because of your such beatiful information.
    Thank You very much.

  • पुष्कर सिँह  On अप्रैल 5, 2009 at 8:34 पूर्वाह्न

    वाह-वाह
    बहुत खुब
    बहुत बढिया.
    धन्यवाद

  • dilip dwivedi  On जून 25, 2009 at 10:26 पूर्वाह्न

    sab log satvikta ki baatein karte hain. acche karmon ki baatein karte hain, par koi effortlessly bina kisi dikhavat aur acchapan fake kiye bina accha nahi ho paata. Aisa karo waisa karo…i love kabeer, all what he said is very lyrical and poetic, try to understand this one… dukh main sumiran sab karen sukh main kare na koi, jo sukh main sumiran kare to dukh kaahen hoye. From sumiran I guess he means mediation. so meditation should not be used as a tool to get out of your misery and then you should forget it. Meditate in both, misery, aswell as happiness. Not just meditate to bring a broad smile just to show it to your near ones. Spiritual ego is far more dangerous than any other ego.

  • Rishabh hawla  On जुलाई 11, 2009 at 11:53 पूर्वाह्न

    that was truly marvellous
    HINDI really enamoures me………………

  • Ashok Duhan Petwer 09896470222  On सितम्बर 11, 2009 at 2:21 अपराह्न

    बहुत बडिया बहुत अच्छा .,अच्छी शिक्षा
    धन्यावाद !कबीर के दोहे:अब मन हंस की तरह मोती चुनता है Ashok Duhan Petwer 09896470222

  • ashim kumar dey.  On अक्टूबर 8, 2010 at 5:43 अपराह्न

    Dhanya wad mai ashim demujhe scool ke jamane se hi kabir ke dohe
    or rahim ke dohe tatha sortha chopaiya sabhi chijo me khas kar intrest tha or abhi bhi hai mai aap ka apne tahe dil se aap ka abhi nandan karta hnu ki aaj bhi hamare purani bharat ki sanskrati ko aap logo ne kabir ke dho se or rahim ke doho se banaye rakha jisse hamari aane wali pidi ise jarur yaad rakegi
    or isme likhe hue bhawarth ko samjhe gee.
    Thanya waad
    aap ka shubh chintak
    Ashim kumar Dey.

  • Ankush Kumar  On अक्टूबर 17, 2010 at 3:21 अपराह्न

    acchhe dohe …… bahut achha

  • Ankush Kumar  On अक्टूबर 17, 2010 at 3:23 अपराह्न

    ayeshe dohe dil kush kar dete hai

  • ASHOK KUMAR  On नवम्बर 10, 2010 at 10:57 अपराह्न

    बहुत बडिया बहुत अच्छा
    धन्यावाद !

  • anmol  On अप्रैल 25, 2011 at 4:10 अपराह्न

    very nice doha.

  • sahiba duggal  On अप्रैल 30, 2011 at 3:58 अपराह्न

    these are the excellenttt!!! lines

  • Narendra dubey  On मई 22, 2011 at 9:14 अपराह्न

    jay shri krisna

  • Rishabh kurade  On दिसम्बर 13, 2011 at 8:09 अपराह्न

    Bahut acche dohe hai

  • kapil  On जनवरी 7, 2012 at 7:12 अपराह्न

    fine

  • Abhishek  On सितम्बर 21, 2012 at 6:55 पूर्वाह्न

    Very very nice

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: