Tag Archives: hindi entertainemnt

भलाई का करार और दिल में दरार-हिन्दी कविताएँ


कितनी बार भी भूख लगी
खाने पर मिट गयी,
कितनी प्यास भी लगी
पानी मिलने पर मिट गयी,
मगर पड़ी जो दिल में दरारें

बनी रहीं हमेशा 
चाहे पीढ़ी दर पीढ़ी मिट गयी।
———–
वह लोगों में
धरती पर जन्नत लाने का
सपना सजाते हैं,
वादों को बड़ी खूबसूरती से सजाते हैं,
एक बार जो चढ़ गये सिंहासन की सीढ़ी
फिर महलों से बाहर नहीं आते हैं।
दिल मिलाने की बातें भले ही करते
मगर दरारें चौड़ी ही किये जाते हैं।
लेखक और संपादक-दीपक “भारतदीप”,ग्वालियर 
poet, writer and editor-Deepak ‘BharatDeep’,Gwalior

writer aur editor-Deepak ‘Bharatdeep’ Gwalior

सज्जन और दुर्जन-हिन्दी कविता (sajjan aur durjjan-hindi kavita)


सुना है रईस भी
कन्या के भ्रूण की हत्या कराते हैं,
दूसरे के आगे सिर झुकाने से
वह भी शर्माते हैं,
फिर गरीबों की क्या कहें,
जो हर पल कुचले जाने का दर्द सहें,
जिनका कत्ल हो गया
उनकी लाश होती गवाह
ज़माने में उसके कातिल दिखते है,
मगर गर्भ के भ्रूण की शिकायत भला कहां लिखते हैं,
पूरा समाज पहने बैठा है नकाब
कौन दुर्जन
कौन सज्जन
सभी चेहरे खूबसरत हैं
पूरे ज़माने को पहचान के संकट में पाते हैं।’’
—————

यह आलेख इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप का चिंतन’पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.अनंत शब्दयोग
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिका
4.दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान पत्रिका5.दीपक बापू कहिन
6.हिन्दी पत्रिका 
७.ईपत्रिका 
८.जागरण पत्रिका 
९.हिन्दी सरिता पत्रिका