Tag Archives: मित्रता

विकास और उधार-हिन्दी कविताएँ


सड़क पर पहियों के नीचे
कुचली जाती धूल
आँख और मुंह में घुसकर
अपनी ताकत दिखाती है,
कहें दीपक बापू
ऊंची इमारतों के सामने
कैसे अस्तित्व बचाएं
तेज रोशनी से चमकते बल्बों
को कैसे चिढ़ाएं
यही वह सिखाती है।
————–
विकास सड़क पर
पहियों की सवारी कर रहा है,
जेब खाली है
आदमी उधार के कागज़ भर रहा है।
कहें दीपक बापू
कर्ज़ लेकर पीने के लिए घी
खरीद भी लें
असली होने का भरोसा नहीं
पेट वैसे भी
                                                            ज़हरीली गैसों से मर रहा है।
कवि,लेखक संपादक-दीपक भारतदीप, ग्वालियर
http://rajlekh.blogspot.com

यह आलेख इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप का चिंतन’पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.अनंत शब्दयोग
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिका
4.दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान पत्रिका

धूल की ताकत-हिन्दी शायरी (dhool ki takat-hindi shayari)


सड़क पर पहियों के नीचे
कुचली जाती धूल
आँख और मुंह में घुसकर
अपनी ताकत दिखाती है,
कहें दीपक बापू
ऊंची इमारतों के सामने
कैसे अस्तित्व बचाएं
तेज रोशनी से चमकते बल्बों
को कैसे चिढ़ाएं
यही वह सिखाती है।
————–
विकास सड़क पर
पहियों की सवारी कर रहा है,
जेब खाली है
आदमी उधार के कागज़ भर रहा है।
कहें दीपक बापू
कर्ज़ लेकर पीने के लिए घी
खरीद भी लें
असली होने का भरोसा नहीं
पेट वैसे भी
                                                            ज़हरीली गैसों से मर रहा है।
कवि,लेखक संपादक-दीपक भारतदीप, ग्वालियर
http://rajlekh.blogspot.com

यह आलेख इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप का चिंतन’पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.अनंत शब्दयोग
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिका
4.दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान पत्रिका