मेरा परिचय=दीपक भारतदीप, ग्वालियर

 प्रात: योग साधना करना एव गीता का पाठ करना। इसके अलावा  लेखन के द्वारा मित्र बनाना । अर्थाजन में अधिक रूचि नहीं । मेरी मान्यता है कि आदमी की देह शाश्वत नहीं है पर जीवन शाश्वत है,लिखने के साथ उसका मजा भी लेता हूँ। देश के अनेक पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशन। इन्टरनेट पर पिछले साल ही लिखना शुरू किया। ग्वालियर में निवास है

इसके अलावा मेरे दूसरे ब्लोग की सूची मुख्य पृष्ठ पर अंकित है।

 ———————————–

दीपक बापू कहिन का सहयोगी चिट्ठा-यहाँ मेरी मौलिक रचनाएं प्रकाशित है और इसके कहीं अन्य व्यवसायिक प्रकाशन के लिए मेरे से पूर्व अनुमति एवं पारिश्रमिक देना अनिवार्य होगा जो प्रति रचना दो हजार रूपये है । कोई लेखक इसका पूर्ण या आंशिक उपयोग कर सकता है पर उसके लिए उसे सूचना देना चाहिए ऐसा आग्रह है । ब्लोग लेखको के लिए कोई बंदिश नहीं है।दीपक भारतदीप, ग्वालियर

Advertisements

टिप्पणियाँ

  • शिद्धर्थ  On मार्च 16, 2008 at 5:17 पूर्वाह्न

    अरे वाह
    आप भी ग्वालियर के हो
    मेइन भी वहिन रेह्ता हून ! 😀
    आप किस इलाके मेइन रेह्ते हो ???

  • samshadahmad  On मार्च 28, 2008 at 4:41 पूर्वाह्न

    sri deepak gi
    bahut achchha likhte hain aap
    abhi-abhi nya blog banaya hai lekin hindi tipe main bahut pareshani aa rahi hai gwalior ka hi nivasi hoon likhta rahta hoon saras salil, madhuri,madhurima or kai apradh kathayen madhur kathyen aadi main prakashit ho chooki hain. net par hindi main likhne ki koshish jari hai. agar madad kar sakein to meharbsni.

  • दीपक भारतदीप  On मार्च 28, 2008 at 1:35 अपराह्न

    शमशाद जी
    ऐसे ही मेरी भी हालत थी. आपको हिन्दी का टूल भेज रहा हूँ. धीरे-धीरे अभ्यास बढ़ जायेगा. आप टाईप करने का बाद बेक्स्पेस से वापस शब्द पर आयेंगे तो वैकल्पिक शब्द आयेंगे और आप उसको क्लिक कर दें और अगर शब्द पर क्लिक करेंग तो edit शब्द भी आएगा और उससे आप ठीक कर सकते हैं. आपके इस ब्लोग पर तो कमेन्ट लिख सकता हूँ पर आक्रोश ब्लोग पर मैं नहीं लिख पा रहा हूँ उसकी सेटिंग में जाकर कमेन्ट के कालम को सही करें. आपने जितना लिखा है ठीक है और आगे गति बढ़ जायेगी. शेष जानकारी समय पर भेजता रहूँगा
    दीपक भारतदीप
    http://www.google.com/transliterate/indic/

  • Brijmohan shrivastava  On अप्रैल 7, 2008 at 5:46 अपराह्न

    आप के ताजा यानी लेटेस्ट लेख तलाशने का कौनसा तरीका अपनाऊ समझ में नहीं आता /आज सुबह ही आस्था धर्म अन्ध्विस्वास पर आपका लेख पढा कुछ कमेंट्स भी दिए आज रात को जब उसे दुबारा पढ़ना चाहा तो मिल ही नहीं रहा क्या लेख का नाम तथा तारीख डालने से ही वह लेख मिल जाया करे जैसे हाई कोर्ट के फेसले मिल जाते है वह १ अप्रिल का लिखा था दो अप्रेल का मिल गया लेकिन वह नहीं मिला अब तो रात ज्यादा हो गई है कल तलाश करूंगा

  • shambhu choudhary  On जून 10, 2008 at 5:42 पूर्वाह्न

    आदरणीय दीपक जी,
    आपका स्नेहभरा पत्र मेरे ब्लॉग पर अभी-अभी पढ़ने को मिला, आपकी रचना बहुत ही सुन्दर है, मानो तारे जमीं पर उतर आयें हों। आज ही अपके सभी ब्लॉगस का अवलोकन भी किया, सभी एक से बढ़कर एक हैं , बधाई,। ‘ई-हिन्दी साहित्य सभा’ में अपना योगदान दें। प्रतियोगिता में भी भाग लेवें, अन्य ब्लॉगस धारकों को भी प्रोत्साहित करें की वे भी भाग लेवें । प्रतियोगिता एक आधार तैयार करने के लिये किया जा रहा है। आगे जाकर इस मंच से राष्ट्रीय पुरस्कार देने की योजना भी है। जिसका निर्णय आप जैसे साहित्यकारों द्वारा ही संभव हो सकेगा। मेरी यह भावना है कि
    “जिन्दा रहने के लिये मिलते रहना जरूरी है”
    आपका ही:
    शम्भु चौधरी

  • RAJ PAL JOSHI  On अगस्त 30, 2008 at 1:08 अपराह्न

    Mujhe jab bhi koi gwalior ka nam leta hai to wo
    banda apna rishtedar lagta hai itna lgav hai mujhe
    gwalior or gwalior ke bandon se

  • RAJ PAL JOSHI  On अगस्त 30, 2008 at 1:10 अपराह्न

    Mujhe jab bhi koi gwalior ka nam leta hai to wo
    banda apna rishtedar lagta hai itna lgav hai mujhe
    gwalior or gwalior ke bandon se kunke DADA JEE
    KA GHAR OR NANA JEE KA GHAR DONO GWALIOR
    ME HE HAIN AP LIKHTE RAHIN HM PADHTE RAHAIN

  • pawan saxena (mumbai)  On सितम्बर 11, 2008 at 7:29 पूर्वाह्न

    DIPAK JI,

    blog me gwalior ke dipak ki roshani se bahut dino baad apna shahar yaad aaya

    Heart ke near,sabka dear……..
    apna payaara GWALIOR…..

  • विकास श्रीवास्तव  On अक्टूबर 8, 2008 at 9:50 पूर्वाह्न

    दीपक जी, दोपहर की नमस्ते…।
    हिन्दी रचनायें दूंदने के क्रम में आपकी रचनाअओं को पदने का अवसर मिला…।बिल्कुल मेरे मन मुताबिक हैं। अभी-अभी ही प्दना शुरू किया है…उम्मीद है जल्द ही सारी पद दालूंगा
    अब ज़्ररा अपने बारे मे भी बता दूं…॥मै भिन्ड से हूं और यदा कदा मैं भी लिखने लग जाता हूं…॥बाकी की बात आपसे फ़िर करेंगे अभी आपकी और्र भी रचनायें पदनीं हैं
    आपका शुभेक्षुक
    विकास श्रीवास्तव
    अ/28,शास्त्री कोलोनी
    भिन्ड (मध्य प्रदेश)
    +919893308324

  • khaskhabar  On जून 12, 2009 at 8:18 अपराह्न

    Dear Sir,
    We really appreciate your blog , as we are running hindi news portal http://www.khaskhabar.com, on behalf of that we had design a khaskhabar.wordpress.com blog to promote our news portal.
    We need your help to promote our blog and news portal for that we request you to please add our blog address in your favourite blog list.
    Thanks
    Team Khaskhabar.com

  • विजय कुमार पाठक  On जून 16, 2009 at 11:53 अपराह्न

    आप बहुत अच्छा लिखते हैँ
    VIJAY KUMAR PATHAK
    VILL-MATHIYA
    POST-BODARWAR
    DIST-KUSHINAGAR
    STATE-U. P. (INDIA)
    PINCODE-274149

    E-mail :
    dsnlindia@gmail.com
    vpathak71@yahoo.com

  • Amit  On जुलाई 31, 2009 at 9:38 अपराह्न

    Mai apka tahe dil se shukra gujar hu kahanh likhane ke liye dipak ji mai mumbai se hu aur mujhe vikas ji jante hai mera mobile no. Hai 9867544166 amit goregao west mumbai

  • sk maltare  On सितम्बर 26, 2010 at 12:55 अपराह्न

    जैसे जैसे आप के बारे में पढ़ा उत्सुकता बढती गयी . आप की रचनाओं में ताजगी है . समसामयिकता है, मेमर दो वेबसाइट है देखे . १. skmaltare.wordpress.com ओर skmaltare.name मै फ़िलहाल नागपुर में शिक्षा कर्म से जुदा हूँ . आशा है भविष्य में भी विचारो का आदान प्रदान होगा .
    एस के मलतारे

  • Sourav Roy  On दिसम्बर 4, 2010 at 11:30 अपराह्न

    जान कर सच में ख़ुशी हुई कि आप हिंदी भाषा के उद्धार के लिए तत्पर हैं | आप को मेरी ढेरों शुभकामनाएं | मैं ख़ुद भी थोड़ी बहुत कविताएँ लिख लेता हूँ | हाल ही में अपनी किताब भी प्रकाशित की | आप मेरी कविताएँ यहाँ पर पढ़ सकते हैं- http://souravroy.com/poems/

  • ThompsonDA  On दिसम्बर 5, 2010 at 6:45 पूर्वाह्न

    I’m Tom and I cannot, for the life of me, remember how I found you guys. I think it was from a PC Mag, but then it might not…..

    Although UK born and bred (N. Yorkshire Dales), I enjoy following the US politics and comparing the similarities with our UK mob of politicians.

    My political views and tendencies are mostly sceptical tending to unclassifiable. Some things I’m conservative about, other things, I agree with ‘The Left’. The rest, I’m either sorta Centrist’ about, or I disagree with all of ’em… Whatever way I see it, I treat politicians with the deepest distrust, until they prove otherwise I’m new.

  • Sanjay Saroj  On फ़रवरी 24, 2011 at 12:14 अपराह्न

    Deepak Bhai aapki kavitayen padhi bahut umda likhte ho,
    aapse ek baat puchni thi ki maine bhi apna ek blog open kiya hai
    aur mai bhi kuch likhna chahta hun
    per kaise likhte hai aur followers kaise milte hai
    hindi font bhi nahi hai
    kuch sujhaw dijiye
    meharbaani hogi

  • Mukesh Negi  On मई 21, 2011 at 4:52 पूर्वाह्न

    आपका परिचय पढा, काफी अच्छा लगा| मैंने भी कुछ समय पहले बलों बनाया है लेकिन कोई भी कमेंट्स नहीं करता है आप इस बारे मुझे बताएं | मेरे ब्लॉग का नाम Mukeshnegi76.blogspot.com है|
    धन्यवाद !

  • abhishek dubey  On जून 24, 2011 at 7:37 अपराह्न

    nice write you

  • Satveer Singhmar Birkali  On नवम्बर 18, 2012 at 7:23 अपराह्न

    दीपक जी, आपके विचारों से बहुत प्रभावित हुआ हूँ मैं। आप जो भी लिखते हैं वो आज के समाज के लिए एक पाठ की तरह है। मैं भी हिन्दी, भारतीय समाज की समस्याएँ और ग्राम स्वराज के लिखने की कोशिश कर रहा हूँ। इसके लिए एक ब्लॉग भी बनाया है (http://satveerkevichar.wordpress.com/) मैं आपके विचारों को अपने फेसबुक खाते पर साझा करना चाहता हूँ। अगर आपकी अनुमति हो तो-

  • gautam jain  On जून 29, 2013 at 11:23 पूर्वाह्न

    namskar sir.ji
    radhe radhe..aap ke blog ki kavitaye bahut pasand aae..kya hum ese aap.ke naam or blog sahit copy kar aap ke hi naam or blog ka adderss dekar FB par copy pest kar sakte he kya…plz rply sir

  • Mitish patidar  On फ़रवरी 16, 2014 at 8:16 अपराह्न

    Me sharngar ras ka shrota hu or me aapka bahut bda frind hu

  • omprakash gurjar  On जुलाई 12, 2014 at 2:06 अपराह्न

    लेखक महोदय श्री दीपक भारतदीप जी
    आपके लेख और ब्लोग्स व व्याख्यान पड़कर मन को बहूत प्रसन्नता महसुस होती हैं
    वर्तमान परिद्रश्य में आपके सभी लेख हमारे जीवन में हों रहे बदलाव व घटनाओ की मार्मिक अनुकृति हैं
    अपने लेखो से हमें एक नई सोच एवम दिशा प्रदान करने के आपका कोटि कोटि आभार

  • manish kumar  On मई 25, 2016 at 8:46 पूर्वाह्न

    sir aapse blog k bare m jankari leni thi plz contect me
    7665607428

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: