ताजमहल से बेहतर लगा वृन्दावन का प्रेम मंदिर-हिंदी लेख


प्रेम मंदिर   वृन्दावन के  बाहर  का दृश्य

Photo0150

 

      हिन्दू धर्म का मुख्य आधार उसका अध्यात्मिक दर्शन है पर कर्मकांडों ने इस तरह समाज को जकड़ रखा है कि कथित पेशेवर धार्मिक कथाकार प्रारंभ में  तो बात अध्यात्मिक ज्ञान की करते हैं पर धीरे धीरे अपने लिये दान दक्षिणा जुटाने के लिये  कर्मकांडों का निर्वाह कर स्वर्ग दिलाने का सपना बेचने लगते हैं। इतना ही नहीं आदमी को यह आश्वासन बेचते हैं कि इन कर्मकांडों के निर्वाह करने पर न केवल स्वयं उसे बल्कि उसकी पिछली सात पीढ़ियों के साथ आगे की भी सात पीढ़ियां स्वर्ग में अपना निवास सुरक्षित कर लेंगी।  वह वहां बैठा अपनी आगे पीछे की पीढ़ियों के साथ आनंद लेगा।  इस घालमेल से भारतीय समाज में अंधविश्वासों का प्रचार हुआ है जिसके  कारण अनेक अध्यात्मिक ज्ञान साधक अब धर्म तथा अध्यात्मिक दर्शन को प्रथक प्रथक मानने लगे हैं।  यह अलग से बहस का विषय है पर इतना तय है कि भारत में धर्म के नाम पर अनेक पेशेवर व्यक्ति संगठित रूप से हमेशा सक्रिय रहे हैं और कहीं न कहीं बाज़ार के सौदागर तथा प्रचार प्रबंधक किसी न किसी रूप में उनके सहायक बने हैं।  आमतौर से हिन्दू धर्म या सनातन धर्म का इतिहास हम अगर देखें तो वह ब्रह्मा, शिव, और विष्णु की कथाओं पर ही आधारित है।  इनमें भगवान विष्णु के चौदह अवतारों की कथा भी आती है और माना जाता है कि भगवान ब्रह्मा अध्यात्मिक ज्ञान, शिव शक्ति तथा विष्णु कर्म के प्रतीक हैं। विष्णु के साथ लक्ष्मी का साथ है इसलिये उनको पालनहार भी माना जाता है।  देखा जाये तो भगवान विष्णु सांसरिक सक्रियता के प्रेरक हैं।  उन्हीं के निरंतर अवतारों की कथायें इस बात का प्रमाण भी है कि धार्मिक रूप से सनातन धर्म में जड़ता की स्थिति नहीं रही। नये अवतारों के साथ समाज में नयापान आता रहा है।  ब्रह्मा और शिव ज्ञान तथा शक्ति के प्रेरक हैं पर संसार में सक्रियता बनाये रखने के लिये विष्णु भगवान एक आदर्श हैं।

Photo0152

              भगवान विष्णु के अवतारों में राम और कृष्ण सर्वाधिक चर्चित हैं।  इसका कारण यह है कि इनका जीवन जन्म से लेकर परमधाम गमन तक मिलता है।  इनकी लीलायें मनुष्य रूप में वर्णित है इसलिये ही भारतीय धर्मभीरु लोग इनको अपने निकट अधिक मानते हैं।  पौराणिक कथाओं के अनुसार कलियुग मेें कल्कि अवतार होना है। इसकी प्रतीक्षा लोग कर रहे हैं। हमारे कहने का अभिप्राय यह है कि हिन्दू या सनातन धर्मी लोग समय के अनुसार अपने धर्म के नये रूप की कामना भी रखते हैं।  वह एक जगह रुकते नहीं। इसका पेशेवर लोग लाभ उठाते हैं पर जिनके मन में भक्ति भाव है वह इसकी परवाह भी नहीं करते।  कृष्ण और कल्कि अवतार के बीच के इस दौर में भी अनेक भगवान अवतार बताकर प्रस्तुत किये गये हैं पर उसका विरोध किसी ने नहीं किया।  इतना ही नहीं इसी दौर में माता के विभिन्न स्वरूपों की पूजा भी प्रारंभ हो गयी पर किसी ने उसे अस्वीकार नहीं किया।  अनेक कथित संत भी भगवान के अवतार बताये गये पर किसी ने उसके प्रतिकार का प्रयास नहीं किया।  सामाजिक रूप से जितना हम भारतीय बहिर्मुखी है उतना ही धर्म के विषय में  अंतर्मुखी है।  हर कोई अपने धर्म को अपने अंतर्मन से निभाता है।  भले ही भारतीय समाज में अनेक पंथ या संपद्राय  है पर मूल रूप से पौराणिक आधारों से प्रथक कोई  नहीं हैं। संभव है कि किसी संप्रदाय विशेष के अनेक शिष्य हों पर उनकी मान्यतायें अंतमुर्खी रहती हैं।

   अनेक कथित विद्वान लोग भारतीय समाज  में एक इष्ट, एक पूजा पद्धति और एक ही मान्यता प्राप्त स्थान न होने को दोष मानते हैं। उनको लगता है कि अन्य धर्मों में इस विषय में एक रूपता है इसलिये उनसे हिन्दू धर्म प्रतिस्पर्धा नहीं कर पाता।  जिनके अंदर हिन्दूओं को संगठित रखने की इच्छा है उन्हें यह सबसे बड़ा दोष लगता है पर सच यह है कि यह समय के अनुसार निरंकार परमात्मा के साकार रूप में बदलाव वाली यह  प्रगतिशीलता है जिससे भारतीय अध्यात्म पूरे विश्व में जाना जाता हैं। दूसरी बात यह है कि अपने समाज के संगठित रखने में अध्यात्मिक ज्ञानियों ने अपनी भूमिका निभाई है। भक्तिकाल में जब राजनीति में मुगलकाल चल रहा था तब कबीर, तुलसी, रहीम और मीरा जैसे संत कवियों ने समाज को इसी अध्यात्मिक ज्ञान के बल पर मार्गदर्शन कर जीवंत बनाये रखा। इस तर्क को सभी मानते भी हैं।

प्रेम मंदिर   वृन्दावन का रात्रिकाPhoto0170लीन दृश्य

     इस विषय पर विचार करते हुए हम भारत के हरिद्वार, मथुरा और वृंदावन तीर्थों पर बढ़ती भीड़ पर विचार करें तो यह बात समझ में आती है कि वहां पुराने मंदिरों के साथ ही नये मंदिरों का निर्माण भी हुआ है।  इसके अलावा भी बहुत सारे शहर हैं जहां पुराने मंदिर हैं और लोग वहां जाते हैं पर इन तीनों स्थानों का महत्व कहीं उनसे अधिक है।  इन तीनों जगहों पर धार्मिकता के साथ व्यवसायिकता का जोरदार मेल हुआ है।  चूंकि हरिद्वार में हर की पैड़ी एक ऐसा स्थान है जिसका महत्व अधिक है इसलिये वहां भीड़ अधिक जाती है पर उसके अलावा वहां तमाम विशाल मंदिर भी बने हैं जो श्रद्धालुओं के आकर्षण में निरंतरता बनाये हुए हैं। मथुरा में भी कृष्ण जन्मभूमि में बहुत नवीनता लायी गयी है।  वृंदावन में सर्वाधिक महत्व का मंदिर निधिवन है पर बांकबिहारी मंदिर में भीड़ अधिक जाती रही है।  बाद में इस्कॉन ने अपना मंदिर बनाया। उस पर भी भारी भीड़ हुई। उसके बाद इस्कॉन ने ही वहां अक्षयपात्र मंदिर बनाया। इसी बीच कृपालु महाराज का प्रेम मंदिर भी बना है।  इस तरह वृंदावन अपने अंदर धर्म के प्रति निरंतरता का भाव बनाये हुए हैं।  सच बात तो यह है कि वृंदावन में अनेक पुराने मंदिर हैं जिन्होंने एक समय श्रद्धालुओं को आकर्षित किया होगा पर अब यह नये मंदिर उनकी जगह ले चुके हैं।  वर्तमान समय में भीड़ इन्हीं नवीन स्थानों का रुख किये हुए हैं।  हम तो यह मानते हैं कि हम भारतीयों के अंदर अध्यात्म के बीज इस कदर बोये जाते हैं कि हम मनोंरजन में भी उसका तत्व देखना चाहते हैं।  यही कारण है कि समय के साथ धार्मिक पेशेवर लोग अपने स्थानों का रूप भी बदलते हैं।  मुख्य बात  यह है कि जीवन में जीवंतता बनी रहे इस बात तो भारतीय मानते हैं। 

         अपनी  यात्रा में हमने कृपालु महाराज का मंदिर देखा। यह मंदिर हमने बनते हुए दस सालों से देखा है।  जब बन रहा था तब हमें लगा कि वह ताजमहल की चमक फीकी कर देगा। हमने देखा कि भारतीय समाज को विखंडित कर नये आधुनिक रूप में लाने  के नाम पर ताजमहल, कुतुबमीनार और तथा मुगलकालीन स्थापत्यकला वाल स्थानों को पर्यटन स्थल के रूप में प्रचारित किया गया।  ताजमहल को ऐसे प्रेम का प्रतीक माना गया जो दैहिक संबंधों पर आधारित है।  इसमें कोई संदेह नहीं है कि ताजमहल और कुतुबमीनार स्थापत्यकला का एक जोरदार नमूना है पर इसमें कहीं भारतीय अध्यात्म की सुंगंध नहीं है यही कारण है कि यहां भारतीयों की कम विदेशी लोगों की भीड़ अधिक रहती है।  हमने ताजमहल को जब भी देखा कभी उससे आनंद नहंी आया। सच तो यह है कि अध्यात्मिक रूप से जिन लोगों में चेतना है उनको ताजमहल कोई आनंद दे भी नहीं सकता। फिर कथित रूप से कब्रें हैं जो कि हमारी दृष्टि से अजीब बात है। मूलत कब्रें और मूर्तियां पत्थर से बनती हैं कब्रें कहीं न कहीं मृत्यु का आभास दिलाती हैं और मूर्तिंया जीवंत भाव के प्रति विश्वास बनाये रखती हैं।  एक अध्यात्मिक साधक के नाते हमारा मानना है कि मुत्यु शाश्वत सत्य है उसकी क्या परवाह करना, जब तक देह है तब तक जींवतता की अनुभूति रखना ही तत्वज्ञान का मूल है। यही वजह है कि हम जब कृपालु महाराज के प्रेम मंदिर में विचर रहे थे तब इस बात का अनुभव हुआ कि यकीनन वह ताजमहल से अधिक आकर्षण का केंद्र  होगा।  ऐसा लगता है कि वह पूरा संगमरमर का बना हुआ हैं। चारों तरफ बढ़िया मूर्तियां हैं। चारों तरफ हरभरा उद्यान है।  वहां खड़े होकर ताजमहल और प्रेम मंदिर की अनुभूतियों का हृदय में मेल कर देख रहे थे। पानी के फव्वारे पर ही आरती के दौरान अनेक आकृतियां उभरकर आ रही थीं।  रात्रि में प्रेम मंदिर पर पड़ रही रौशनी बार बार रंग बदल रही थी। पर्यटन के साथ सहज अध्यात्म भाव  की अनुभूति हो रही थी। जहां तक ताजमहल और प्रेम मंदिर की आपसी तुलना का प्रश्न है तो इसका कारण यह है कि दोनों ही संगमरमर से बने हैं और कहीं न कहीं प्रेम शब्द उनकी पहचान है।  यह अलग बात है कि ताजमहल से नश्वर प्रेम जुड़ा है और प्रेम मंदिर से शाश्वत!

 

            हम यहां एक बात बता दें कि कौनसा मंदिर किसने बनवाय इस पर विचार करना ठीक नहीं है।  अगर किसी मंदिर पर यह प्रश्न उठायेंगे तो फिर प्राचीन स्थानों के निर्माण पर भी विवाद उठेंगे।  मूल प्रश्न यह है कि इन स्थानों पर आनंद कितना आता है?  ताजमहल में जाकर ऐसा लगता है कि मन ठहर गया है जबकि प्रेंम मंदिर में हर पल मन संचालित होता है।  शुरुआत में यह विचार था कि वृंदावन के बाद आगरा भी ताजमहल देखने जायेंगे पर जब प्रेम मंदिर में अपने अंतर्मन का अध्ययन किया तो पाया कि वह पर्यटन से तृप्त हो गया था।  ऐसे में दोनों की तुलना करना स्वाभाविक था।  अध्यात्मिक साधक और लेखक होने के नाते ऐसा कुछ लिखना हमारी रुचि है जो दूसरे लिखने की सोच भी नहीं पाते। शुक्रवार को वृंदावन से लौटे तो लगा कि इस रविवार को कुछ खास लिखा जाये। प्रेम मंदिर में जो आनंद आया था इसलिये उस पर लिखने का मन था पर जब अध्यात्मिक विषय पर लिखने बैठें तो पता नहीं क्या से क्या लिख जाते हैं। एक बात तय रही कि प्र्रेम मंदिर में  यकीनन ताज महल से अधिक भीड़ हमेशा रहेगी। इसका कारण यह कि उसमें पर्यटन के साथ अध्यात्मिक आनंद भी मिल सकता है।

लेखक एवं कवि-दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप

ग्वालियर मध्य प्रदेश
Writer and poet-Deepak Raj Kukreja “Bharatdeep”
Gwalior Madhyapradesh

वि, लेखक एवं संपादक-दीपक भारतदीप, ग्वालियर

poet,writer and editor-Deepak Bharatdeep, Gwaliro

 

यह आलेख इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप का चिंतन’पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.अनंत शब्दयोग

4.दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान पत्रिका

 5.दीपक बापू कहिन
6.हिन्दी पत्रिका 
७.ईपत्रिका 
८.जागरण पत्रिका 
९.हिन्दी सरिता पत्रिका 

 

Advertisements
Post a comment or leave a trackback: Trackback URL.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: