आंसुओं से महलों के चिराग रौशन हैं-हिन्दी शायरी (ansu se roshan mahal-hindi shayri)


दौलत बनाने निकले बुत

भला क्या ईमान का रास्ता दिखायेंगे।

अमीरी का रास्ता

गरीबों के जज़्बातों के ऊपर से ही

होकर गुजरता है

जो भी राही निकलेगा

उसके पांव तले नीचे कुचले जायेंगे।

———–

उस रौशनी को देखकर

अंधे होकर शैतानों के गीत मत गाओ।

उसके पीछे अंधेरे में

कई सिसकियां कैद हैं

जिनके आंसुओं से महलों के चिराग रौशन हैं

उनको देखकर रो दोगे तुम भी

बेअक्ली में फंस सकते हो वहां

भले ही अभी मुस्कराओ।

कवि,लेखक संपादक-दीपक भारतदीप, ग्वालियर
http://rajlekh.blogspot.com

यह आलेख इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप का चिंतन’पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.अनंत शब्दयोग
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिका
4.दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान पत्रिका

Advertisements
Post a comment or leave a trackback: Trackback URL.

टिप्पणियाँ

  • Devi Nangrani  On फ़रवरी 19, 2010 at 1:18 पूर्वाह्न

    मंदिर, मस्जिद, देवाँगन में नूर नज़र इक आता है
    साधक कोई बैठा जिसमें बिन सुर साज़ के गाता है

    देवी नागरानी

    • bipin25  On अप्रैल 18, 2010 at 4:49 अपराह्न

      aap ne jo comment me doha likhi hai bahut aachi hai aap bhi is ki niyamit srota hai . comment aacha or labhdayek hona chahiye …. thanx for u

  • chilmans37blog  On मार्च 10, 2010 at 9:27 पूर्वाह्न

    aap ki kavitayen bahut achhi hain. jo dil ko bha jati hain. bhrastachar aur vibhinn muddon par ktaksha achhen hain. likhate rahiye. gulab chand jaisal p.g.t. hindi k. v. a.f.s. arjangarh new delhi- 47

  • chilmans37blog  On मार्च 10, 2010 at 9:34 पूर्वाह्न

    Boodha bargad so raha dale lat ke kesh .
    Shahar-shahar sab ghoomate gaon hua pardesh.
    by- chilman ghazipuri

  • chilmans37blog  On मार्च 10, 2010 at 9:35 पूर्वाह्न

    Boodha bargad so raha dale lat ke kesh .
    Shahar-shahar sab ghoomate gaon hua pardesh.
    by- GULAB CHAND JAISAL

  • bipin25  On अप्रैल 18, 2010 at 4:45 अपराह्न

    aap ki sari rachnaye bahut aachi hai .apne bahut aachi kavita likhi hai .jisko padh kar man prasaN ho jata hai .

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: