उग्र हो जाता है चूहा हो या इंसान, जब माया हो मेहरबान-व्यंग्य आलेख


सुनने में आया है कि मंदी की वजह से आतंकवादी भी पस्त हो रहे हैं। एक टीवी चैनल के अनुसार पाकिस्तान अपनी कमजोर आर्थिक स्थिति वैसे जब मंदी का दौर प्रारंभिक स्थिति में था तब कुछ विश्लेषकों ने यह संभावना व्यक्त की थी कि अनेक आतंकवादी गिरोह भी इसकी लपेट में आयेंगे। यह संदेह गलत नहीं था और न है। कहने को धर्म,जाति,भाषा और क्षेत्र के नाम पर समाज में वैमनस्य फैलाने वाले बहुत सारे संगठन पूरे विश्व में सक्रिय हैं पर उसके सदस्य केवल पैसा कमाने के लिये ही उनसे जुड़ते हैं-कथित सिद्धांतों और आदर्शों से उनका संबंध तो दिखावे का होता है।

प्राचीन भारतीय कथा है कि एक संत एक गृहस्थ के घर गये। वहां उन्होंने भोजन किया और फिर कुछ देर उसके साथ बैठकर बातचीत में लगे रहे। उन्होंने देखा कि गृहस्थ अपने हाथ में एक डंडा पकड़े बैठा है और एक चूहा उसके पास आता है तो उससे उसको भगाता है। संत ने पूछा-क्या बात है कि इस डंडे को पकड़े क्यों बैठे हो? कोई चूहा तुम पर हमला थोड़े ही कर सकता है।’

गृहस्थ ने कहा-महाराज, यह चूहा बहुत दमदार है। मेरे ऊपर जो आला है यह वहां तक एक बार उछल कर ही पहुंच जाता है। ऊपर मिट्टी के बर्तन को नीचे गिरा देता है। कई बर्तन तोड़ चुका है। अब यहीं बैठकर उसे रोकने का काम कर रहा हूं।
संत ने कहा-‘उस बर्तन में क्या है?’
गृहस्थ ने कहा-‘उसमें चांदी के सिक्के हैं जो मैं अपने खर्च से बचा कर रखता हूं ताकि कहीं आपदा में काम आयें।’
संत ने कहा-‘उस बर्तन को नीचे उतारो।’

गृहस्थ ने वैसा ही किया। संत ने उन चांदी के सिक्को को लिया और घर के कोने में स्वयं ही एक गड्ढा खोदा और चांदी के सिक्के कपड़े में बांधकर उसके अंदर रखकर उस पर एक पत्थर रख दिया। गृहस्थ से कहा- इस गड्ढे का उपयोग तुम अपनी बचत रखने के लिये किया करो। यह बात किसी को बताना नहीं। मेरे जाने के बाद अंदर से गड्ढे को पक्का कर देना। यह चूहा यहां कभी नहीं पहुंच पायेगा। अब यह बर्तन फिर तुम उस आले में रख दो और मेरे साथ थोड़ा दूर बैठकर इसका तमाशा देखो।

वह दोनों थोड़ी दूर बैठ गये। खाली मैदान देखकर चूहा आया और उस आले तक उछल कर पहुंचने का प्रयास करने लगा। वहां ऊंचाई तक पहुंचने की बात तो दूर वह जमीने से थोड़ा ऊपर भी नहीं उठ पाता था। थकहारकर मैदान छोड़ गया। गृहस्थ को आश्चर्य हुआ। उसने उस संत से कहा-‘महाराज यह तो चमत्कार हो गया। यह चूहा एक ही झटके में वहां पहुंच जाता था पर आपके प्रभाव से अब जमीन से भी नहीं उठ पा रहा।’

संत ने कहा-‘यह कोई चमत्कार नहीं है। यह मेरे प्रभाव के कारण नहीं हारा। सच बात तो यह है कि यह माया का प्रभाव ही था जो चूहे को इतनी ताकत मिल रही थी जो इतनी ऊंचे एक ही झटके में पहुंच जाता था। अब खाली मिट्टी के बर्तन में इतनी ताकत नहीं है कि वह उसे अपनी तरफ खींच सके।’
यह कथा शायद प्रस्तुतीकरण में एकदम वैसी न हो जैसी सुनायी जाती है। कहीं अलग अलग तरह से प्रसंग होते हैं। संभव है यह कथा कल्पित भी हो पर इस सत्य के इंकार नहीं किया जा सकता है कि खेलती माया ही है यह अलग बात है कि इंसान अपनी ताकत का ढोंग करता है।

किसी एक संगठन की बात हम यहां नहीं कर रहे। दूनियां भर में अनेक ऐसे संगठन हैं जो धर्म,जाति,भाषा,वर्ण,रंग, और क्षेत्र के आधार पर हिंसक अभियान चलाते हैं। दावा यह करते हैं कि वह अपने समूहों का कल्याण कर रहे हैं। वह पढ़े लिखे हों या नहीं पर उनका समर्थन करने वाले ढेर सारे बुद्धिजीवी भी मिल जाते हैं। कोई उनको भटके हुए लोग कहता है तो कोई योद्धा बताता है। पुराने समय में सभ्यताओं और समूहों का टकराव हुआ है पर उसका कारण जड़,जमीन और नारी के कारण ही होती थी। आज भी कुछ नया नहीं है पर सभ्रांत बुद्धिजीवी वर्तमान मेें सक्रिय आतंकवादियों के समूहों में जाति,भाषा,और धर्म के तत्व ढूंढते हुए नजर आते हैं। अगर एक बात कहें कि आजकल सभ्य समाज है तो यह भी मानना पड़ेगा कि यह भ्रमित समाज है। पुराने विचारों को उठाकर फैंकने की बात करते हैंं पर कौनसी बात सत्य है झूठ इस पर विचार करने की शक्ति लोगों में नहीं है। आजकल भौतिकतावाद का बोलबाला है। सभी लोग धन के पीछे भाग रहे हैं। यहां तक कि अपनी बौद्धिकता की शक्ति पर कमाने वाले बुद्धिजीवी भी भागते हुए विचार करते हैं ऐसे में चिंतन करे कौन? इस लेखक ने ऐसे आलेख लिखे हैं जिसमें हमेशा ही इस बात की चर्चा की है कि आतंकवाद एक तरह से व्यवसाय बन गया है। कुछ लोग ऐसे जरूरी होंगे जिनका आर्थिक फायदा होता है और इसलिये वह इसके प्रायोजन में सहायता करते हैं-वह हफ्ता वसूली भी हो सकती है और सुरक्षाकर भी। अखबारों में ऐसी खबरें कोने में छपी मिलती हैं जिसमें आतंकवादी क्षेत्रों में तस्करी और अन्य अपराधिक गतिविधियों की बढ़ोतरी की चर्चा होती है। यह भी कहा जाता है कि प्रशासन और सरकार का ध्यान बंटाने के लिये ही इस तरह का आतंकवाद चलाया जाता है।

अगर हम मोटे तौर से देखें तो जैसे जैसे विश्व में आर्थिक और तकनीकी विकास हुआ वैसे ही आतंकवाद भी बढ़ा है। बाजार तेज होता गया तो आतंकवाद भी बढ़ता गया। अब मंदी का दौर चला रहा है। ऐसी बातें भी अखबारों में चर्चा में आती रही हैं कि आतंकवादियों ने मुद्राबाजार में अपना विनिवेश किया। बैंको में अपना पैसा जमा किया। अब जब मंदी आयी है तो उनकी हालत भी पतली हो रही है। वैसे अभी यह मानना गलत होगा कि आतंकवाद पूरी तरह से समाप्त हो जायेगा पर जिस तरह आतंकवादियों और अपराधियों के समूहों के मुखिया कटु और उग्र भाषा का प्रयोग करते हैं उससे तो यही लगता है कि केवल उनकी आर्थिकी शक्ति-दूसरे शब्दों में कहें मायावी शक्ति- बुलवा रही है। यह सही है कि आदमी कोई चूहा नहीं है पर एक बात याद रखना इस सृष्टि में सभी की देह पंचतत्वों से बनी है और अहंकार,मन और बुद्धि अपने स्वभाव के अनुसार सभी में हैं चाहे वह आदमी हो या चूहा। अंतर केवल इतना है कि माया के प्रभाव में चूहा उछल कूद करता है और आदमी अपनी वाणी से भी यही काम करता है।
………………………
यह आलेख इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप की सिंधु केसरी-पत्रिका ’ पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.दीपक भारतदीप का चिंतन
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिकालेखक संपादक-दीपक भारतदीप

Advertisements
Post a comment or leave a trackback: Trackback URL.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: