क्योंकि इंसान फूलों की तरह खुशबू नहीं बिखेर पाते-हिंदी शायरी



जिंदा और चलते फिरते इंसान की
खिदमत में
उसके गले पर चढ़ती है फूलों की माला
अगर बन जाये कोई इंसान लाश
तो भी श्रद्धांजलि में भी
शव पर बिछ जाती है फूलों की माला
जिन पर है दौलत की दुआ
उन इंसानों के पैदा होने पर खुश
और मरने पर रोने वाले बहुत हैं
पर बिखेरते हैं हर पल जिंदा खुशबू
उनके उन फूलों के खिलने पर कौन हंसता है
और कौन है मुरझाने पर रोने वाला
…………………………….

क्योंकि इंसान कभी फूलों की तरह
खुशबू नहीं बिखेर पाते
इसलिये ही अपने जिंदा रहते हुए
अपनी खिदमत में खुद
और मरने पर मातम में
उनके अपने उन पर फूलों की बरसात करवाते
………………………

यह मूल पाठ इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप की शब्द- पत्रिका’ पर लिखा गया। इसके अन्य कहीं प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की ई-पत्रिका
2.दीपक भारतदीप का चिंतन
3.दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान-पत्रिका

Advertisements
Post a comment or leave a trackback: Trackback URL.

टिप्पणियाँ

  • sri  On अगस्त 22, 2008 at 12:03 पूर्वाह्न

    Dear bloggers,
    eNewss.com is india blog aggregator and would invite you to join us and submit your hindi blog to our Hindi category. We are 150+ member network and showcause several language blogs.
    Best regards
    sri
    http://www.enewss.com

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: