लिखता है तो बिकना सीख, नहीं तो भूखा रहना सीख


हिंदी में लिखने वालों को सम्मान उनके द्वारा लिखी गयी रचनाओं के स्तर और संख्याओं के आधार पर नहीं वरन उनके द्वारा अर्जित धन के अनुसार दिया जाता है। जब मैंने लिखना शुरू किया तब मुझे पता था कि इससे होने जाने वाला कुछ नहीं है- यह मेरी रोजी रोटी का आधार नहीं बन सकती । फिर भी मैंने लिखने का इरादा नहीं छोडा वजह! मैं इस समाज में रहूँगा पर इसका हिस्सा नहीं बनूंगा यह तय कर लिया तो तय कर लिया। साथ ही तय किया कि अपनी लेखनी की चर्चा केवल लेखकों से ही करूंगा। मैंने अपने मन की बात अपने घर पर भी किसी को नहीं बतायी। क्योंकि मैं जानता था इस समाज में जितनी आध्यात्म की प्रधानता बाहर से दिखाती है अन्दर उससे ज्यादा धन की प्रधानता है। आध्यात्म में भी मेरा सदैव मेरा झुकाव था पर उसमें भी मैं एकांतप्रिय था। लोग यहाँ अपने विश्वास को ज्यादा श्रेष्ठ बताते हैं पर इसके लिए उनके पास कोइ प्रामाणिकता नहीं है। हाँ, अगर किसी के विश्वास पर बहस करो तो वह लड़ने को तैयार हो जाता। जिस पर जैसे मैं विश्वास करता हूँ वैसे ही दूसरा भी उस पर करे -यह भाव लोगों में रहता है। भक्ती में भी जो अंहकार है उसकी यहां व्याख्या करने की जरूरत नहीं है। कुल मिलाकर हर जगह धन का बोलबाला है। ऐसे में लेखक की इज्जत होना संभव नहीं है। इसका कारण भी है कि हमारे धर्म ग्रंथों मैं ही इतनी कहानियाँ हैं कि आदमी उन्हें पढे तो पारी ज़िन्दगी पद्र जाये। मैं आज भी जब अपने धर्म ग्रंथों को पढता हूँ तो वो मेरे को नयी लगती हैं । फिर भी लिखने की आदत से बाज नहीं आता हूँ क्योंकि जो भी हिन्दी का लेखक लिख रहा है वह उन्हें कहानियो और विचारों को अपने से नवीनता प्रदान करता है। पर अन्य लोगों की बात तो छोरिये घर के लोग तक इस बारे में सहमत नहीं होते। उस दिन एक सज्जन मुझसे मिलने आये उस समय मैं ब्लोग में लिख रहा था । वह सीधे मेरे कमरे में आये और बोले क्या कर रहे हो ? मैंने कह-“कुछ नहीं खेल रहा हूँ । तुमने मुझे ताश खेलना खेलना सिखाया है वही काम् कर रहा हूँ। वह खुश हो गये, और बोले -“अच्छा कर रहे हो, इससे समय पास होता है और मनोरंजन भी होता है।” इतने हमारी श्रीमतीजी पीछे से आकर बोलीं-“नहीं भायी साहब यह खेल नहीं रहा थे बल्कि अपना ब्लोग लिख रहे हैं ।” वह भोंच्क्क रह गए और बोले-“यार तुम्हें इससे कुछ मिलता है/” मैंने मना किया तो बोले-“फिर क्या फायदा ? कुछ पैसा मिले तो लिखो, नहीं तो बेकार है मेहनत । मैंने उनेहं बिठाया और बातचीत का विषय बदल दिया। उनके जाने के बाद मैंने पत्नी से कहा -” क्या जरूरत थी उसे यह बताने की कि मैं ब्लोग लिख रहा हूँ। पत्नी ने कहा-“तो क्या हुआ वह कोई गलत थोड़े ही कह रहे थे। भला इससे तुम्हें मिलता क्या है/” मैंने पत्नी से कहा -“ताश खेलने से क्या मिलता था ?मनोरंजन ! वह इससे भी मिल रहा है। उनके जाने का बाद मैं सोचने लगा कि’ ताश खेलने में समय खराब करने से बुरा ब्लोग लिखना जो लोग मानते हैं उनसे बहस करना बेकार है। इस समाज में एक ताश खेलना मनोरंजन माना जा सकता है पर साहित्य लेखन को नहीं। हाँ बाहर जरूर सम्मान मिल जाये अपने लोगों से इसकी आशा करना बकर है। फिर अपने एक साहित्यक मित्र के शब्द हमेशा याद रहे जो उन्होने अपनी कविता में कहे थे.”लिखना है तो बिकना सीख नहीं तो भूखा रहना सीख।” मेरा वह मित्र अपने पुत्र के निधन के बाद भी जीवटता के साथ जीं रहा है और इस ब्लोग के लिए उसने ही प्रेरित किया था। बहुत दिनों से वह मुझे मिला नहीं है और मैं सोच रहा हूँ कि या तो उसका भी ब्लोग बनवाकर उसकी कवितायेँ प्रकाशित की जाएं या अपने ब्लोग में उनको स्थान दिया जाये। मेरा वह मित्र केवल लेखक होने के कारण ही है वरन हम कभी एक दुसरे के घर नहीं गए । उसने मेरे अन्दर के लेखक को जिंदा रखने में जो योगदान दिया है उसे मैं कभी भूल नहीं सकता।

Advertisements
Post a comment or leave a trackback: Trackback URL.

टिप्पणियाँ

  • Shikha  On अप्रैल 9, 2007 at 1:45 अपराह्न

    अच्छा सवाल उठाया है आप्ने… “िहं्दी में िलख्ना” कभी तो अप्ना मुकाम हािसल करेगा… 🙂

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: